छोटी हाइट (Short Height) वाली लड़कियों को कैसे कपड़े पहनने चाहिए ?

छोटी हाइट (Short Height)

हेलो, दोस्तों आज हम आपको अपने इस लेख के माध्यम से बताएंगे कि आखिर छोटी हाइट (Short Height) वाली लड़कियों को कैसे कपड़े पहनने चाहिए ? साथ ही हम आपको इस लेख के माध्यम से यह भी बताएंगे कि आपको कैसे कपड़ो का चयन नहीं करना चाहिए, ताकि आप अच्छे से इन बातों को समझे और इन बातों का ध्यान रखें। 


वस्त्रों से जुड़े कुछ ऐतिहासिक पहलू : 

जैसा कि हम सभी जानते हैं। प्राचीन काल से ही वस्त्र सभी मनुष्य जाति के लिए एक मूलभूत आवश्यकता है। आदिकाल के समय मे तन ढकने के लिए लोग घास, पत्ते, जानवरों की छाल, पेड़ो की छाल आदि का प्रयोग करते थे। तब के समय में वस्त्रों को इतना महत्व नहीं दिया जाता था। वो केवल वस्त्रों को तन ढकने के लिए ही प्रयोग करते हैं। लेकिन जैसे जैसे सभ्यता का विकास होता चला गया। ठीक उसी के साथ साथ मनुष्यों ने भी प्राकृतिक रेशों से वस्त्र बनाने की भी कला सीख ली। 

आज के आधुनिक युग में इन वस्त्रों का प्रयोग केवल प्राकृतिक परिवर्तन से बचने के लिए नहीं या फिर शरीर ढकने के लिए नहीं पहनने अपितु, वस्त्रों को व्यक्ति के व्यक्तित्व की पहचान समझा जाने लगा है। जैसे - व्यक्तित्व में निखार लाने और किसी विशेष वर्ग को दर्शाने के लिए वस्त्रों का चयन कर पहने जाते हैं।


तो चलिए अब जानते हैं कि छोटी हाइट (Short Height) वाली लड़कियों को कैसे कपड़े / वस्त्र पहनने चाहिए। 

हम सभी जानते हैं कि वस्त्र तो वस्त्र है कैसे भी पहने बस तन ढकने से मतलब होना चाहिए। लेकिन आज के समय में इन बातों का कुछ और ही अर्थ है क्योंकि आज का युग आधुनिक युग जहाँ कपड़ो को भी फ़ैशन से जोड़ दिया गया है। जो इसके साथ चलता है। 

उसे लोग उसके पहनावे से सभ्य और समझदार समझते हैं। लेकिन यदि कोई इसके साथ न चले तो उससे लोग सोचते हैं कि पता नहीं कौन है ये देखकर इसने कैसे वस्त्र धारण किये हैं। इत्यादि इत्यादि बोलते हैं और इसी फ़ैशन की वजह से यह भी देखने को मिलता है कि जो लड़कियों किसी कारण वश लंबाई में कम है। तो उन्हें भी विभिन्न समस्याओं का सामना करना पड़ता है। पहला की वो अपनी हाइट को कैसे बढ़ए और दूसरा की वह किस प्रकार के वस्त्र धारण करें। जिससे वो थोड़ी लम्बी दिखाई दे। तो चलिए जानते हैं लंबे दिखने का तरीका…..


कम लंबाई वाली लड़कियों के लिए कपड़ो / वस्त्रों का चयन : 

जैसा कि हम सब जानते हैं। परिधान को लेकर आज के युग ने बहुत तरक्की कर ली है।  मनुष्य के व्यक्तित्व के अनुरूप और उससे अधिक आकर्षक बनाया जा सकता है। तो वहीं कुछ ऐसे भी वस्त्रों को बनाया गया है। जो भ्रम पैदा करती है। कहने का मतलब है कि कम लंबाई वाले को लंबा दिखाती है। तो अधिक लंबाई वाले मनुष्य को थोड़ा छोटा दिखती हैं। यह सब आपके वस्त्रों के चयन पर निर्भर करता है। वस्त्रों को लेकर यह भ्रम पैदा करने वाली बातों कुछ इस प्रकार है -

1. रेखाएं - जब हम कोई कपड़े खुद सिलवाते है। तो उन कपड़ो को सिलते समय रेखाओं का बहुत महत्व होता है। इन रेखाओं से ही हम अपनी शाररिक बनावट को अपने अनुसार गति प्रदान कर शरीर की लंबाई या चौड़ाई को हम अधिक या कम कर सकते हैं क्योंकि इन रेखाओं की सहायता से हम अपनी शारिरिक बनावट को छुपा सकते हैं। साथ ही यह भ्रम भी पैदा कर सकते हैं कि यदि कोई व्यक्ति चौड़ाई में अधिक है तो उसे कम कर सकते हैं और यदि पतला है तो मोटा दिखाई देता है। यह व्यक्ति के व्यक्तित्व को अधिक प्रभावशाली बनाता है। 

2. लंबत्तर रेखाएँ - लंबत्तर रेखाएँ ये ऐसी रेखाएं हैं। जो हमें पृथ्वी के समान लम्ब बनाते हैं। इन रेखाएं की वजह से जब हम अपनी दृष्टि नीचे से ऊपर की ओर घूमते हैं। तो हमें लंबाई का एहसास होता है। यदि कोई लड़की छोटे कद की है या फिर छोटे कद के साथ साथ वह मोटी भी है। तो उसे लंबत्तर वाली रेखाओं के वस्त्रों का चयन कर। उसे ही धारण करना चाहिए। इससे कद से छोटी लड़की भी लंबी प्रतीत होती है। वह छोटी लड़की भी प्रभावशाली और सीधी खड़ी रेखाओं वाले वस्त्रों की सहायता से आकर्षक व्यक्तित्व की दिखाई देती है साथ ही लंबाई का भ्रम भी पैदा होता है। 

3. तिरछी रेखाएं - ईन रेखाओं के प्रभाव लड़कियों के कोण पर निर्भर करता है। अगर कोई छोटी लड़की लंबाई का कोण बनती है। तो उसे चौड़ाई का एहसास होता है। साथ ही इन दो तिरछी रेखाओं से V आकार बनाता है। जो तिरछी रेखाओं वाले कपड़ो द्वारा किसी भी छोटे कद की लड़की की लंबाई और चौड़ाई को बढ़ाना या फिर यह दोनों ही बात संभव हो जाती है। 

सरल भाषा में कहे तो लम्बवत तिरछी रेखाएं  किसी को भी लंबाई का एहसास करती है। तो वही दूसरी तरफ आड़ी- तिरछी रेखाएं लंबाई कम होने या बोने होने का एहसास करती है। 

4. वक्र रेखाएं - यह रेखाएं घुमावदार होती हैं। जिस वजह से यदि कोई उसे देखता है तो उसकी दृष्टि भी घूमने लगती है। साथ ही यह रेखाएं देखने में अधिक सुंदर होती है। इन रेखाओं का प्रयोग यदि लंबवत होता है तो यह लंबाई का एहसास करती है। साथ ही यदि इसकी रेखाएं आड़ी दिशा में हुई तो लंबाई कम होने का एहसास करती है।  

5. विरोधी रेखाएं - इस प्रकार की रेखाएं अक्सर विभिन्नता लेन के लिए प्रयोग की जाती है और कम लंबाई का भी अभ्यास करती हैं। जैसे - बैल्ट, योक आदि । 

6. खंडित रेखाएं - यह रेखाएं वो रेखाएं है जो कपड़ो पर दो तीन लाइन में कपड़ो को काट कर फिर बनाई जाती है या फिर बटन आदि लगाई जाती है। 

जैसे -

यदि धयनपूर्वक सीधी और आड़ी रेखाओं के प्रयोग किया जाए तो यह लंबाई या चौड़ाई दोनों का एहसास करती है।

टेढ़ी रेखाओं को विचारों की अस्थिरता और अस्थिर जीवनशैली का प्रतीत करती है। 

टेढ़ी रेखाएं किसी भी कपड़े के डिजाइन में अनुचित मानी गई है।

तिरछी रेखाएं गंभीरता का एहसास करती हैं।

बटन का प्रयोग यदि एक लाइन में हो तो लंबाई का एहसास करती हैं।

यदि बटन की लंबाई दो पंक्ति में हो तो चौड़ाई का एहसास करती है।


ध्यान रखने योग्य बातें :

बेल्ट लंबाई को कम करने का कार्य करती हैं।

बैल्ट चौड़ाई को बढ़ती है।

यदि किसी की बाजू पतली है तो उसे झालर, कफ या चुन्नट का प्रयोग करना चाहिए।

अड़ी तिरछी रेखाओं के प्रयोग न करे यह लंबाई की कम करती हैं।

हमेशा V आकार वाले गले का चुनाव करें यह आपको लंबाई का एहसास करती है। 

विरोधी रेखाओं के ध्यान रखें।

आशा करती हूं कि आप बताए गए बातों का ध्यान रखेंगे और सही चुनाव कर अपना दोष छुपाने में कामयाब हो जाएंगे। जिससे आप को अपनी कम हाइट का एहसास नहीं होगा और अपने आप को अपने अनुसार ढल सकेंगे। साथ ही आपको हमारा ये लेख कैसा लगा हमें कमेंट बॉक्स में कमेंट करके जरूर बताएं। 

मैं ज्योति कुमारी, Hindipado.com पर हिंदी ब्लॉग/ लेख लिखती हूँ। मैं दिल्ली विश्वविद्यालय से स्नातक हूँ और मुझे लिखना बहुत पसंद है।

jyoti kumari best hindi blogger in delhi
(ज्योति कुमारी )

0/Post a Comment/Comments